Advertisement

चमत्कार 45 किलो का पत्थर पानी में तैहर रहा है ! जाने इस पत्थर में ऐसा क्या हे

"इस धरती पर न जाने कितने रहस्य छुपे है ! जिनको आज तक कोई नही जान पाया है ऐसी कई रहस्यमयी जगह है जिनके रहस्य को आज तक कोई नही सुलझा पाया है इनमे से एक भारत भी.."

Advertisement

इस धरती पर न जाने कितने  रहस्य छुपे है ! जिनको आज तक कोई नही जान पाया है ऐसी कई रहस्यमयी जगह है जिनके रहस्य को आज तक कोई नही सुलझा पाया है  इनमे से एक भारत भी है ! यहाँ कई चमत्कार होते रहते है जिनके रहस्य को आज तक बेज्ञानिक भी नही सुलझा पाए है हाल में ऐसी ही एक घटना हरियाणा के भेवानी जिले में देखने को मिली है यहाँ एक 45 किलो के पत्थर को देख कर ग्रामीण हैरान है यहाँ के लोग इस पत्थर को देखकर इसे भगवान् का चमत्कार मान रहे है  !

Image Source: youtub

अक्सर आपने देखा होगा की जब आप पानी से भरे तलाव में एक छोटासा कंकर डालते है तो बह पानी में डूब जाता है लेकिन इस गांव में एक 45 किलो का पत्थर पाया गया है जिसे देख कर लोग चकित है ये पत्थर पानी में नही डूबता  है  इतना भारी होने के बावजूद भी ये पानी के ऊपर आसानी से तहर लेता है आपको यकीन नही हो रहा होगा लेकिन ये सच है इस पत्थर की पूजा करने के लिए लोगो की काफी भीड़ इखट्टा हो रही है !
Image Source: .indiatvnews.

गांव बालो का कहना है की इतना भारी होने के बाद भी ये पत्थर पानी में इतनी आसानी से कैसे तैहर लेता है भारत में कई चमत्कार होते रहते है लेता है लोग इस पत्थर को देख कर इसकी पूजा करने लगे है इस बात को सुनकर आस पास के गांव के लोग भी यहाँ काफी संख्या में इस पत्थर को देखने के लिए पहुच चुके है यहाँ काफी लोगो की भीड़ इखट्टा हो रही है लोग इस पत्थर को लेकर तरह तरह की बाते कर रहे है  !

Image Source: haryanaabtak

इस पत्थर के बारे में सबसे पहले जानकर गांव के ही एक अजित नाम के लड़के को मिली थी ये खेत में अपने पिता को चाय लेकर जा रहा था उसी समय रस्ते में नहर में इसे एक तहरता हुआ पत्थर दिखाई दिया था धीरे धीरे इस पत्थर की जानकर पुरे गांव में फेल गई ये पत्थर आस पास के छेत्र में रहस्य का विषय बना हुआ है इसके को लेकर लोग तरह तरह की बाते कर रहे है की कोई तो इसे भगवान् शिव का रूप मान रहा है इस तरह इस पत्थर को लोग भगवान् मान कर इसकी पूजा कर रहे है !



Advertisement
Related Content

indian hindu tradition, scientific logic क्या है असल मायने में एक चुटकी सिंदूर की कीमत?

एक चुटकी सिंदूर की कीमत तुम क्या जानो रमेश बाबू, फिल्म देवदास का ये पारो का संवाद काफी लोकप्रिय है आज भी मौके बे मौके हंसी मजाक में इसे इस्तेमाल किया जा रहा है.

nation celebrating ninth navratra and ramnavami today आज है रामनवमी भगवान राम का जन्मदिवस और माता सिद्धिदात्री की आराधना का दिन

चैत्र के नवरात्रों का आज आखिरी दिन है जिसमे मां दुर्गा नौवे रूप माता सिद्धि-दात्री की पूजा का विधान है । मां हमे हर कार्य में पारंगत होने की शक्ति देती है

How to use black magic जाने कैसे करे काले जादू और तांत्रिक विद्या का प्रयोग

तंत्र-मंत्र व काले जादू और तांत्रिक की प्रक्रिया देखने में जितनी ज्यादा जटिल होती है, करने में उस से भी ही सरल होती है। लोग जिस पर भी कालू जादू का इस्तेमाल करना

arjun drend his sons wife the art of dancing क्यों अर्जुन ने सिखाया था अपनी बहु को नपुंसक बन नृत्य?

अर्जुन दिव्यास्त्रों की खोज में निकल गए. शान्त वातावरण में वे भगवान की शंकर की कठोर तपस्या शुरू कर दी, उनकी परीक्षा के लिये भगवान शिव भील रूप में आये।

kartik month of hindu callander  starts from 27th October कार्तिक स्नान की महिमा: एक कुतिया बनी सुन्दर राजकुमारी

कार्तिक स्नान प्रारम्भ होने ही वाले है और हिन्दू धर्म में इस माह में सूर्योदय से पहले स्नान और पूजा का विशेष महत्त्व है, महिलाये ब्रह्म मुहूर्त ( सवेरे तड़के) मे

lord krishna full filled previous berth desire of demon king bali's daughter मातृत्व या बदला: भगवान कृष्ण ने क्यों मारा था अपनी दूध माँ को?

भगवान अपने भक्तो की मन की हर बात जानते है, चाहे वो कैसी भी हो उनकी हर इच्छा की पूर्ति देर सवेर पूरी करते है. जैसे सूर्पनखा ने श्रीराम को चाहा तो उसे अगले जन्म..

Amazing what a million really perforated lingam? Amazing, क्या सच में है एक लाख छिद्रो वाला शिवलिंग?

छत्तीसगढ़ के पांच ललित कला केन्द्रो में से एक है मोक्षदायी नगर जिसे छत्तीसगढ़ की कशी कहा जाता है यहाँ पर एक शिवलिंग है जिसमे एक लाख छिद्र है

Why owl mother Lakshmi chose his vehicle माँ लक्ष्मी ने अपना वाहन उल्लू ही क्यों चुना?

माँ लक्ष्मी ने अपना वाहन उल्लू ही क्यों चुना इसके पीछे एक कहानी है जब माँ लक्ष्मी कार्तिक अमावस्या के दिन धरती पर आई तो अँधेरे में भी उल्लू अपनी तेज नजरो के

best benefits of touching legs of olders and tilakam तिलक लगाने और पैर छूके प्रणाम करने के है ये जबरदस्त फायदे!

भारत में बहुत पुरानी परंपरा है अपने से बड़ों का अभिवादन करने के लिए चरण छूने की, भारतीय लोगो में उर्म में अपने से बड़े के चरण स्पर्श करना अच्छा और शुभ समझते हे.

7 facts about benefits of tilak तिलक लगाने के ये हैं 7 जबरदस्त फायदे

आखिर टीका लगाने से क्या फायदा मिलता है? कभी आपने सोचा किसी के माथे पर तिलक लगा देखकर मन में यह सवाल उठना स्वाभाविक है या सिर्फ एक दिखवा ?जानिए

Reclining statue of Hanuman is only in India सिर्फ यही हनुमान जी की भारत में लेटी हुई प्रतिमा है, जानिए

आपने अभी तक हनुमान जी की प्रतिमा खड़ी ही देखी होगी! लेकिन इलाहबाद का हनुमान मंदिर भारत में केवल एक ही मंदिर है जो लेटे हुए है! जब...

the secret behind singing the karpurgauram shloka after god's devotion कर्पूरगौरम.... शिव पार्वती के विवाह उपरांत विष्णु ने गायी थी ये स्तुति!

नवरात्रों का उत्सव देश भर में उत्साह से मनाया जा रहा है, सुबह शाम माता की आरती होती है पर आरती के अंत में एक स्तुति होती है जो की आरती के पश्चात ही होती है.

greatest devoted of vishnu आखिर कौन है नारद से बी बड़ा भक्त भगवान विष्णु का ?

संसार में नारद से भी भी बड़ा भक्त है भगवन विष्णु का जो सबसे प्रिय है और इसे देखकर नारदमुनि भी हैरान है वो है एक किसान जो सुबह उठकर भगवन को याद करता है

Brahma was what fascinated her own daughter, and had a terrible curse Shiva क्या ब्रह्मा हुए थे अपनी ही पुत्री पर मोहित, और शिव ने दिया था भयानक श्राप

ब्रहम्मा ने सतरूपा नाम की एक सुन्दर कन्या की उत्पत्ति की वह कन्या इतनी सुन्दर थी की ब्रहम्मा भी उस पर मोहित हो गए इसे देखर शिव ने उन्हें श्राप दे दिया

kansa was son of an rakshasa not of ugrasena कंस की माँ पद्मावती के थे राक्षस से नाजायज सम्बन्ध, उग्रसेन नही थी कंस के पिता!

आज कृष्ण जन्माष्टमी है और कृष्ण लीला से जुडी अनजान बातों पर चर्चा भी हो रही है, ऐसे में एक चर्चा ये भी छिड़ चुकी है की क्या एक मनुष्य का पुत्र इतना निर्दई हो

amazing story of jatayu with full detail मिल गया रामायण के जटायु का पार्थिव शरीर, 60000 साल जिए थे दशरथ के थे मित्र!

रामायण में जटायु का नाम तो सुना ही होता जिसने सीता को बचाने के लिए कमजोर और वृद्ध होते हुए भी रावण से लोहा लिया और श्रीराम के लिए प्राण दिए. लेकिन आज जाने उनका

power of gayatri mantra गायत्री मंत्र जाप की सही विधि, आपको देगी लाभ

महान गायत्री मंत्र को वेदों का सर्वश्रेष्ठ मंत्र माना गया है। गायत्री मंत्र जप के लिए तीन समय बताए गए हैं। मंत्र जप तेज आवाज में नहीं करना चाहिए

relax your body with yoga nidra जानिए कैसे मिलता हे योग निद्रा से शरीर को आराम

कुछ लोग योग को सिर्फ कसरत या व्यायाम मानते हैं और योग सेशन खत्म होने के बाद तुरंत अपने दिन के दूसरे कामों में लग जाते हैं।

bjp not only banned cow murder, but also controlled smuggling   भारतीय सैनिको ने पिछले एक साल में 90 हजार माताओ को बचाया

मोदी सरकार के शासनकाल के एक साल में बांग्लादेश की सीमा पर पहरा दे रहे करीब तीस हजार सैनिकों को एक और जिम्मेदारी पिछले एक साल से दी गई है।

facts about war of ramayana, you never know 72 करोड़ थी रावण की सेना फिर भी 8 दिन ही चला था रामायण का युद्ध!

आश्विन शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को शुरू हुआ था रामायण का युद्ध, दशहरे के दिन यानि दशमी को रावण वध के साथ ही समाप्त हो गया था.

lord krishna suggested peoples to prayer cow dung hillocks श्रीकृष्ण के कहने पर दिवाली के अगले दिन गाय के गोबर की, की जाती है पूजा!

बात हजारो वर्षो पूर्व की है जब भगवान कृष्ण ने अपनी बाल लीलाओ से पुरे वृन्दावन में धूम मचा रही थी, ऐसे में ही उन्होंने इंद्र के घमंड को चूर करने की सोची थी.

shurapanakha was married, rawana killed her husband! शूर्पणखा थी शादीशुदा, रावण ने अपने ही बहनोई को मार बहिन को कर दिया था विधवा! जाने क्यों?

सुन कर शायद आप चोंक गए होंगे क्योंकि आपने भी रामायण देखि दी टीवी पर लेकिन पढ़ी नही है, ये बात बिलकुल सही है शूर्पणखा शादी शुदा थी जिसे रावण ने ही विधवा बना दिया

Duryodhana who was forcefully married which Pandora कौन थी भानुमति जिससे दुर्योधन ने जबरदस्ती शादी की थी

भानुमति काम्बोज के राजा चंद्रवर्मा की पुत्री थी राजा ने उससे विवाह के लिए स्वयंवर रखा जब भानुमति हाथ में माला लेकर अपनी दसियों और अंगरक्षक के साथ आगे बढ़कर

the unknown facts of the mahabharat war दिवाली के दिन शुरू हुआ था महाभारत का युद्ध, 40 लाख में से सिर्फ 12 ही बचे थे जिन्दा!

भगवान कृष्ण ने निकला था युद्ध के दिन का मुहूर्त दिवाली के दिन शुरू हुआ था महाभारत का महायुद्ध, कुरुक्षेत्र की धरती पर थे द्वेष छोटी सी बहस पे एक किसान ने अपने