Advertisement

भृगु ऋषि के प्रार्थना करने पर श्रीराम ने स्वीकारी थी सीता जी की वनवास की इच्छा!

"सिताजी के त्याग के सवाल पर श्री राम जी पर आज की मूर्क स्त्रियां या यूँ कहें की बकवादी लोग (जो हिन्दू धर्म से घृणा करते है ) ऊँगली उठाते है. जबकि शाश्त्र कहता ह"

Advertisement

सिताजी के त्याग के सवाल पर श्री राम जी पर आज की मूर्क स्त्रियां या यूँ कहें की बकवादी लोग (जो हिन्दू धर्म से घृणा करते है ) ऊँगली उठाते है. जबकि शाश्त्र कहता है की ऐसे लोगो को जिनकी श्रीराम में आस्था नही है, उन्हें ऐसे सवाल उठाने का ही अधिकार नही है और न ही रामकथा जानने का!

श्रीमद्भागवतगीता में भी श्रीकृष्ण ने सिधर अर्थो में कहा है की जिन लोगो की मुझ मे प्रीती नही है उन्हें न तो गीताजी सुननी चाहिए और न ही उनसे इसकी चर्चा ही की जानी चाहिए. मुझ स्वयं की इसपे दोषदृष्टि नही थी तथापि सिताजी के वनवास भेजे जाने को और इसे राज-धर्म के चलते किया गया था करके ही इस में कुछ दोष नही देखता था. लेकिन......


..लेकिन सिताजी के वनगमन के चलते मैं ये सोचता जरूर था की हो न हो ये किसी पूर्वजन्म के कर्म के चलते ही ऐसा हुआ होगा लेकिन क्या था वो इतिहास? इस सवाल का उतर है श्रीमदवाल्मीकि रामायण के उत्तरकांड में, जिसमे रुद्रावतार दुर्वासा ने दशरथ जी को बता दिया था ये वृतांत.

जिस दिन राम जी को पता चला की सीता गर्भवती है तो उन्होंने इस खुश खबरी के बदले सिताजी से कुछ मांगने बोला, तब उन्होंने कहा की वो गंगा तट के वन में एक दिन रहना चाहती है इसपे राम जी हाँ कह दिया और अपने दोस्तों से मिलनी चले गए.


श्रीराम जी के सखा भद्र ने तब (उन्ही के पूछने पर ही) अयोध्या में फैली बदनामी के बारे में बताया जिसमे लोग श्रीराम द्वारा सिता को अपनाने पर अपवाद कर रहे थे. राम जी ने तुरंत तीनो भाइयो को बुलाया और तब लक्षमण को (चुपचाप) सिता को वन में छोड़ आने का आदेश दे दिया (वाल्मीकि आश्रम में).

सिताजी तो राम जी से मिली बधाई (वरदान) के कारण पहले ही तैयार थी तब लक्षमण सारथि के साथ उन्हें लेकर चल दिया तो सिताजी को भयंकर अप-शकुन होने लगे. गंगा पर करने पर लक्षमण से सिता ने पूछा तो वो रोने लगे और सिता के वनवास की बात बता दी. तब सिता ने ये कष्ट सहर्ष स्वीकार कर लिया क्योंकि ये ही धर्म की मर्यादा है, पत्नी को जान देकर भी पति के मान की रक्षण करनी चाहिए.



लक्षमण के आंसू नही रुक रहे थे उनसे कुछ बोला (गला रुद्ध गया) नही जा रहा था तब उनके पिता के सारथि सुरथ ने उन्हें दुर्वासा ऋषि द्वारा कही गई बात सुनाई जो उन्होंने पहले ही कह सुनाई थी. जिसमे राम के वनवास में कष्ट सहने और सिता के अकेले वनवास का भी कारन बताया था.
देवा-सुर संग्राम में भृगु की पत्नी ने राक्षसों को अपने आश्रम में छुपा लिया और उन्हें मारने आये देवताओ को मूर्छित या विकलांग करना शुरू कर दिया था. तब अदिति पुत्र वामन (विष्णु) ने उन्हें सुदर्शन चक्र से मार गिराया था, इसपर भृगु ने उन्हें पत्नी वियोग का श्राप दिया था.

गुस्सा ठंडा होने पर ऋषि को अपनी भूल समझी तो उन्होंने तपस्या कर उन्ही भगवान् से उनके श्राप को स्वीकार कर उनके अस्तित्व को बचाने को कहा. तब रामावतार में इस श्राप को भुगतने का वर दिया जिसके कारण ही गर्भवती सिता को राम ने त्यागा, बड़ा कठिन था ये राजधर्म.


Advertisement
Related Content

what was the wife of pandu sati after her death क्या पाण्डु की पत्नी उसके मरने के बाद उसके साथ सती हुई थी!

शल्य माद्री के भाई थे दुर्योधन ने शल्य को अपनी तरफ से युद्ध करने के लिए राजी किया था वो भी छल से शल्य के सारथि थे पाण्डु की दूसरी पत्नी उनके साथ सती हो गयी थी

stambheshwar temple of lord shiva, made by his son दिन में दो बार हो जाता है ये मंदिर नजरो से ओझल

भगवन शिव का यह मंदिर जो चमत्कारिक है। स्तंभेश्वर नाम का यह मंदिर दिन में दो बार सुबह और शाम को अदृश्य हो जाता है.

lord brahma come to brijmandal to test divine of lord krishna योगमाया: ब्रह्मा जी को भी नही था विश्वास श्री कृष्ण के भगवान होने का!

ये संसार माया से बंधा हुआ है, सबको मालूम है की मृत्यु सत्य है एक न एक दिन मरना है लेकिन फिर भी हम अपने दैनिक कामो में इतने व्यस्त रहते है की हमें ये सच याद नही

What's severed Ganesha in real sconce Cndramndl? क्या गणेशजी का कटा हुआ असली मस्तक चन्द्रमण्डल में है?

भगवान गणेशजी को हम गजमुख,गजानन आदि नामो से जानते है क्योकि उनका मुख हाथी का था क्या आप जानते है की उनका कटा हुआ असली मस्तक कहा गया वह चन्द्रमण्डल में गया!

 The building has come to see what is the secret of the strong heart to children ! इस इमारत को देखने के लिए आते है मजबूत दिल बाले जाने इस का रहस्य क्या है !

पर्यटकों के लिए ये इमारत आज भी रहस्य बनी हुई है मात्र 10 लाख में बनी ये इमारत पूरी दुनिया के लिए आर्केटेक्चर का एक अद्भुत नमूना है जिसे देख कर अच्छे अच्छे.....

kali mantra destroys evil effects on your kundli काली माता का ये मंत्र आपके सारे दुख-दर्द दूर करेगा..

देवी मां कालि का का स्वरूप जितना भयावह और डरावना है उससे रूप से कही ज्यादा भक्तों के लिए आनंददायी है। आमतौर पर काली की पूजा तांत्रिक किया करते हैं।

maharshi markandey tell story to yudhisthar of indradyumya स्वर्ग भी नहीं है स्थायी, सत्कर्मो के फल ख़त्म होते ही फिर लेना पड़ेगा जन्म

जब पांडव वनवास में थे तो उस समय उन्हें मार्कण्डेय ऋषि मिले, पांडवो ने उनका सत्संग किया मार्कण्डेय ने युधिष्ठर के पूछे जाने पर एक कथा सुनाई थी.

Mother, the miracle of the sword cut philosophy Gala चमत्कार तलवार से गाला काट कर देवी माँ ने दिए दर्शन ! जाने इस हकिगत को

देवी माँ ने नवरात्र के समापन के दिन चमत्कार कर दिखाया लाखो से संख्या में भक्त इखट्टा थे इस मन्दिर को समत्कारी मन्दिर के नाम से जाना जाता है जाने इस के बारे में

Night stay between 2 to 5 pm in the temple because of the killing ... रात के 2 से 5 बजे के बीच रुकने पर मौत हो जाती है इस मंदिर में क्योकि...

मेहर माता का मंदिर सिर्फ रात २ से ३ बजे तक बंद किया जाता है इसके पीछे एक बड़ा रहस्य है की रात्रि २ से५ बजे के बीच जो भी इस मंदिर में रुकता है उसकी मृत्यु हो जाती

where are ShriKrishna was mundan sanskar in rajasthan, was the worship of Shiva आखिर श्रीकृष्ण का मुंडन राजस्थान में कहाँ हुआ, की थी शिव की पूजा, जानिए

जयपुर की राजधानी रहा आमेर करीब 5000 वर्षो पुराना नगर है। शास्त्रों में आमेर को अम्बिका वन...

kumbhakaran the lagend of rakshasa इंद्र भी जलता था कुम्भकरण से, नारद ने दी थी दर्शन शास्त्र की दीक्षा!

ऋषि विश्रवा को दूसरी पत्नी कैकसी से दूसरे पुत्र के रूप में कुम्भकरण ने जन्म लिया था ब्राह्मण कुल के इस राक्षस ने ऐसी मिसाल कायम की जो उसे एक हीरो बनता है.

vetical city architact look like it is an shivalinga क्या वेटिकल सिटी भी एक शिवलिंग है?

क्या आप कभी वेटिकन सिटी गए है, अगर नही गए है तो क्या आपने शहर को देखा है, अगर आप वेटिकनसिटी की इन तस्वीरो को देख लेंगे तो आपको ये देखि हुई सी लगेगी.

The severed head was meghanaad really began to laugh but why? क्या सच में मेघनाद का कटा सिर हंसने लगा था लेकिन क्यों?

रामायण में मेघनाद राम ओर लक्ष्मण को मारना चाहता था लेकिन उसकी मृत्यु हो जाती है लेकिन उसका सिर काटने पर भी वो हसने लगता ! क्योकि जब...

If the loss is not protected from faults in the worship of Shiva हानि होने से बचाना है तो ना करें शिव की पूजा में यह गलतियाँ

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का बहुत ही अधिक महत्व है और किसी भी कार्य, परेशानी या कोई भी समस्या हो तो सबसे पहले भगवान...

jarasandh born to his twin mothers half part in each womb दुर्योधन की पत्नी को पाने की चाह में कंस के ससुर ने कर्ण से किया 21 दिनों तक युद्ध

बृहद्रथ ने मगध पर अधिकार पा लिया था पर फिर भी राजा को दुःख था की उसके दो जुड़वाँ नानिया होने के बाद भी संतान नहीं है, तब राजा चण्डकौशिका ऋषि के पास गया और पुत्र

know about all types of rudraksha कौन-सा रुद्राक्ष, किस तरह है लाभकारी

हम सब जानते हे की हमारे धार्मिक ग्रंथों में रुद्राक्ष के महत्व की खूब चर्चा की गई है. किसी न किसी रुद्राक्ष को कोई न कोई कार्य से बेहद सुब मान गया है.

sage ashthavakr bend form eight part of body due to curse in womb माँ के गर्भ में मिला था श्राप, इस कारण 8 जगहों से टेढ़े थे ऋषि अष्टावक्र!

ऋषि उड़लक एक विवेकी ऋषि थे उनका प्रिय शिस्य था कहोद, ऋषि अपने शिस्य से इतने प्रसन्न थे की उन्होंने अपनी पुत्री सुजाता का विवाह कहोद से कर दिया. जब सुजाता गर्भवती

two parts boy आखिर कौन था दो हिस्सों में बटा हुआ बालक

भगवन श्रीकृष्ण ने बाल्यकाल से युवावस्था तक कई लीलाई की उन्होंने कई बार जरासंध जैसे वीर को कई बार अपने विवेक और बल से हराया यह एक द्वापर युग की बात है

Amazing science fact of Indian Idiom जाने "खून चूसना" मुहावरे की वैज्ञानिक सच्चाई, झटका लगेगा!

"ये तो मेरा पूरा खून पि गया, दिमाग का दही , खून पि गई मेरा सारा...." ऐसे कई मुहावरे आपने हास्यपद ढंग से सुने होंगे, लेकिन क्या इनके पीछे कोई विज्ञानं भी है ??

why people talking loudly when they are fighting each other? गुरुवाणी: गुस्सा आने पर दो करीबी लोग क्यों चिल्ला कर बात करते है?

प्राचीन काल में जब गुरु शिष्य परंपरा थी तब एक एक गुरु अपने शिष्यों के साथ बैठे थे, सहसा ही सभी शिष्य आपस में चर्चा करने लगे जिसमे वो काफी जोर जोर से बोल रहे थे.

forced marriage also exampled in mahabharat महाभारत की कहानी में भी है जबरन और धोके से हुई शादियों के उदहारण

आज के ज़माने में जन्हा लव जिहाद या फिर प्यार में धोके बद्दस्तूर जारी है तो जान ले की महाभारत काल में भी महिलाए ऐसे अपराधो और अन्यायों से अछूती नहीं थी.

Why the father had to marry his own daughter? The sage who Agsty आखिर क्यों एक पिता को अपनी ही बेटी से शादी करनी पड़ी? जो थे ऋषि अगस्तय

ऋषि अपनी बच्ची जवान हुई तो इस ने ही उस कन्या का हाथ राजा से मांग लिया और ऋषि ने अपनी ही बेटी के साथ...

some after death story of ravan's murder रावण वध के बाद भी क्यों नहीं गए थे राम लंका में सीता को लेने

जब विभीषण ने भगवान राम को रावण की मृत्यु का भेद बताया तो भगवान राम ने एक साथ 31 बाण अपने धनुष से छोड़े. हला बाण लगा रावण की नाभि जिससे उसमे समाहित अमृत निकल गया

donate parts of body after death, it give to heaven सतयुग से चला आ रहा है अंगदान, मुक्ति में बाधक नहीं सहायक है

ऑर्गन डोनेशन आज एक चर्चा का विषय बना हुआ है विदेशो में और नामी लोगो में तो ये ट्रेंड भी है पर धार्मिक मान्यताओ में अभी भी इसे स्थान नहीं मिला है।